सौंफ खाने के क्या होंगे फायदे कब और कैसे खाए और गर्भावस्‍था में सौंफ खाने के लाभ What will be the benefits of eating fennel in pregnancy

सौंफ खाने के क्या होंगे फायदे कब और कैसे खाए सौंफऔर गर्भावस्‍था में सौंफ खाने के लाभ(What will be the benefits of eating fennel and benefits of eating fennel in pregnancy)

सौंफ होती क्या है (What is fennel)

सौंफ (fennel seeds) का उपयोग मुंह को शुद्ध (Mouth Freshner) करने और घरेलू उपचार  के रूप में किया जाता  है। इसका पौधा  ऊंचा तथा सुगन्धित होता है। इसके पत्तों का प्रयोग सब्जी के रूप में भी किया जाता है। भूमध्यसागरीय इलाके में सौंफ जैसा ही एक पौधा पाया जाता है जिसे एनीसीड (aniseed) कहते हैं। इसका उपयोग इटालवी भोजन (fennel seeds in hindi) में उपयोग किया जाता है।जब भी हम रेस्टोरेंट में खाना खाने जाते है तो खाना खाने के बाद वेटर सौंफ खाने को देते हैं। सौंफ का उपयोग घरों में भी अनेक तरह से किया जाता है आप भी सौंफ का सेवन करते होंगे। वास्तव में छोटा सा दिखने वाला सौंफ बहुत ही गुणकारी होता है लेकिन अधिकाश लोग सौंफ के इस्तेमाल के बारे में बहुत अधिक नहीं जानते होंगे। आपको शायद यह पता नहीं होगा कि सौंफ एक औषधि है और इसके बारे में आयुर्वेद में बहुत सारी बातें बताई गई हैं।

सौंफ खाने के क्या होंगे फायदे

सौंफ वात तथा पित्त को शांत करता है, भूख बढ़ाता है, भोजन को पचाता है, वीर्य की वृद्धि करता है। हृदय, मस्तिष्क तथा शरीर के लिए लाभकारी होता है। यह बुखार, गठिया आदि वात रोग, घावों, दर्द, आँखों के रोग, योनि में दर्द, अपच, कब्ज की समस्या में फायदा पहुंचाता है। इसके साथ ही यह पेट में कीड़े, प्यास, उल्टी, पेचिश, बवासीर, टीबी आदि रोगों को ठीक करने में भी सहायता करता है। इसके अलावा सौंफ का प्रयोग कई अन्य रोगों में भी किया जाता है।

 सौंफ का उपयोग मुँह के रोग में फायदेमंद: 

अगर मुँह मे छाले हो गए हो तो सौंफ खाने से बहुत फायदा मिलता है और मुँह से बहुत बदबू आ रही हो तो भी बहुत फायदेमंद होती है इस का सेवन कैसे करे अगर मुँह मे छाले हो तो बस आपको सौंफ का काढ़ा बनाकर उसमें फिटकरी मिलाकर गरारा करने से मुँह के छालों में लाभ होता है।और अगर मुँह से बहुत बदबू आ रही हो तो सौंफ में बराबर मिश्री मिलाकर सेवन करने से मुँह से बदबू (bad breath smell)आने की परेशानी ठीक होती है।

सौंफ का सेवन पेट की गैस के लिए फायदेमंद है (Saunf Benefits to Treats Acidity in Hindi)

अगर पेट में गैस हो गयी हो तो सौंफ का सेबन करें और आपकी गैस होगी दूर ,1-2 ग्राम सौंफ की जड़ (saunf in hindi) के चूर्ण का सेवन करने से कब्ज में लाभ होता है। सौंफ के बीज का काढ़ा बना लें। इसे 5-10 मिली मात्रा में भोजन के प्रत्येक ग्रास के साथ छोटे बच्चों को पिलाने से बच्चों का कब्ज ठीक होता है। आयु के अनुसार मात्रा में सौंफ के बीजों (fennel in hindi) की चटनी का सेवन करने से डकार और पेट की गैस की समस्या ठीक होती है।

Ajwain benefits (अजवायन खाने के चौकाने वाले फायदे )और 😲शिशुओं के लिए अजवाईन के फायदे👌👌😲इसका सेवन करने से पेट दर्द, गैस, उल्‍टी, खट्टी डकार और एसिडिटी में आराम मिलता है

आँखों के रोग में सौंफ से फायदा (Benefits of Saunf to Cure Eye Disease in Hindi)

सौंफ के पत्ते के रस में रूई को भिगोकर आँखों पर रखें। इससे आँखों की जलन, दर्द तथा लालिमा की परेशानी ठीक होती है।1-2 ग्राम सौंफ (sauf) चूर्ण में 65 मि.ग्रा. खसखस यानी पोस्त के दानों का चूर्ण मिला लें। इसे नियमित सेवन करने से आँखों के रोग ठीक होते हैं तथा आँखों की रोशनी बढ़ती है। सौंफ(saunf in hindi खाने से आँख के रोग में फायदा मिलता है।2-4 ग्राम सौंफ चूर्ण में बराबर भाग खाँड मिलाकर सेवन करें। इससे मानसिक रोग तथा गाय के दूध के साथ सेवन करने से आँख के रोग ठीक होते हैं।

स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध को बढ़ाता है सौंफ (Sauf is Beneficial for Breastfeeding Women in Hindi)

सौंफ (fennel meaning in hindi)के पत्तों के 5 मिली रस को 100 मिली दूध में मिलाकर पीने से स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध की वृद्धि होती है।

मोटापा घटाने में सौंफ का प्रयोग लाभदायक (Saunf Help in Weight Loss in Hindi)

6-12 ग्राम शतपुष्पादि घी को गुनगुने दूध अथवा जल के साथ सेवन करें। इससे वात, पित्त, मेद, मूत्र रोग में फायदा होता है। इसके साथ ही मोटापा (saunf benefits for weight loss in hindi), फाइलेरिया (हाथीपाँव) तथा लीवर और तिल्ली की वृद्धि जैसी बीमारी में लाभ (benefits of saunf) होता है।

गर्भावस्‍था में सौंफ खाने के लाभ

सौंफ की चाय को मॉर्निंग सिकनेस और मतली की समस्‍या को दूर करने में बहुत असरकारी पाया गया है। प्रेग्‍नेंसी में पेट फूलने की समस्‍या भी काफी परेशान करती है और सौंफ(saunf in hindi इसे दूर करने में प्रभावशाली साबित हुई है।सौंफ भूख बढ़ाने का भी काम करती है।




  1.  मॉर्निंग सिकनेस- प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली मॉर्निक सिकनेस की समस्या से सौंफ राहत दिला सकता है। उल्टी और मतली से निजात दिलाने में सौंफ फायदेमंद हो सकता है।
  2.  पाचन के लिए- गर्भावस्था के दौरान पाचन से संबंधित समस्याओं में सौंफ का सेवन करने से लाभ मिल सकता है। सौंफ में पाया जाने वाला फाइबर कब्ज की समस्या से भी निजात दिला सकता है।
  3.  अनिद्रा से राहत- प्रेगनेंसी के दौरान अगर आपको अनिद्रा की समस्या है तो सौंफ का सेवन कारगर सिद्ध हो सकती है। सौंफ में मैग्नीशियम नाम का तत्व पाया जाता है जो कि अनिद्रा की समस्या को दूर करने में सहायक है। 
  4.  डाइबिटीज यानि मधुमेह में लाभदायक- प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाले डाइबिटीज की समस्या में भी सौंफ काफी फायदेमंद हो सकता है। डाइबिटीज  को कंट्रोल करने में इसमें पाया जाने वाला हाइपोग्लाइसेमिक गुण असरदायक है।
  5. ब्लडप्रेशर की समस्या- प्रेग्नेंसी के दौरान उच्च रक्तचाप की समस्या होने की संभावना बनी होती है। सौंफ में पोटैशियम पाया जाता है और ये आपके ब्लड में सोडियम की मात्रा को कम करने में सहायक हो सकता है।  
kishmish waterकिशमिश के पानी के ये फायदे गैस, किशमिश का पानी पीने से कब्ज और एसिडिटी की शिकायत नहीं होगी।


 





Post a comment

0 Comments